मुंबई: संजय राउत के बयान पर सोनू सूद का रिएक्शन- राजनीति में बिल्कुल नहीं आऊंगा

मुंबई: कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन में कई शहरों में फंसे प्रवासी मजदूरों की मदद कर रहे सोनू सूद की हर तरफ प्रशंसा हो रही है. उनकी इस नेक पहल को सेलेब्स, राजनेता और जनता का भरपूर समर्थन मिला है. लेकिन शिवसेना के मुखपत्र सामना में संजय राउत ने जिस तरह सोनू सूद की आलोचना की, उसपर काफी बवाल मचा. संजय राउत ने सोनू सूद के प्रवासियों की मदद करने को राजनीति से प्रेरित बताया था.
अब संजय राउत के इस बयान पर सोनू सूद का रिएक्शन सामने आया है. सोनू सूद ने कहा है- मैं किसी की खातिर कुछ भी नहीं कर रहा हूं. मैं बस प्रवासियों के लिए कुछ करना चाहता था. संजय राउत अच्छे इंसान हैं और मैं उनकी काफी इज्जत करता हूं. ये उनका विचार है. वे बड़ी शख्सियत हैं. मुझे उम्मीद है कि समय सच बताएगा और वे इसे महसूस करेंगे.
सोनू सूद ने कहा- मुख्यमंत्री उद्धव और आदित्य ठाकरे के साथ मीटिंग अच्छी रही. मुझे लगता है जो भी हो रहा है वो उद्धव और आदित्य ठाकरे की मदद की वजह से हो पाया है. वे मेरे दोस्त हैं. असलम शेख ने काफी मदद की है. उनके बिना प्रवासियों की मदद नहीं हो सकती थी. सबसे जरूरी ये है कि लोग घर पहुंच रहे हैं. मेरा बस यही इरादा है. सोनू ने भरोसा दिलाया कि उनके इरादों पर सवाल उठने के बावजूद वे लोगों की मदद करना बंद नहीं करेंगे. उन्होंने कहा- जब तक आखिरी प्रवासी अपने घर नहीं पहुँच जाता तब तक मैं लोगों की मदद करता रहूंगा.
राजनीति में आने के सवाल पर सोनू ने कहा- मेरा राजनीति में आने का कोई इरादा नहीं है. मैं बतौर एक्टर अपने काम को एंजॉय कर रहा हूं. अभी मेरे पास करने के लिए बहुत कुछ है. बतौर एक्टर मैं बहुत बिजी हूं. मेरी कई बड़ी फिल्में पाइपलाइन में हैं. मैं फिल्में करना चाहता हूं. मैं किसी को कुछ कहने से नहीं रोक सकता. यहां लोकतंत्र है. मेरा राजनीति में कोई इंटरेस्ट नहीं है. बिल्कुल भी नहीं.

शिवसेना नेता संजय राउत ने क्या कहा था?
संजय राउत ने सोनू सूद पर निशाना साधते हुए कहा था कि वो बीजेपी के कहने पर मजदूरों को घर भेजने में जुटे हैं. ये उनका पॉलिटिकल मूव है, वे बीजेपी के इशारे पर ये सब कर रहे हैं. संजय राउत ने अचानक से सोनू के ‘महात्मा’ बनने पर भी सवाल उठाए थे. उन्होंने कहा था कि कुछ ही दिनों में सोनू सूद पीएम से मिलेंगे और बीजेपी के लिए यूपी-बिहार में प्रचार करेंगे. ‘सामना’ में सोनू सूद को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की कठपुतली बताया गया.
संजय राउत के इस बयान की काफी आलोचना हुई थी. संजय राउत के विवाद ने काफी तूल पकड़ा था. बाद में सोनू सूद राज्य के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मिलने उनके आवास मातोश्री गए थे. उद्धव और आदित्य ठाकरे संग सोनू सूद की तस्वीर भी सामने आई थी.