मैनपुरी लोकसभा उप-चुनाव: सपा ने डिंपल यादव को दिया टिकट, बीजेपी की अपर्णा यादव से हो सकता है मुकाबला?

लखनऊ: मुलायम सिंह यादव के निधन से रिक्त हुई मैनपुरी लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी ने प्रत्याशी का ऐलान कर दिया है। यहां से अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव को पार्टी ने टिकट दिया है। लगातार चुनाव हार रही समाजवादी पार्टी के लिए यहां अग्निपरीक्षा होने जा रही है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का पिछले महीने ही 10 अक्टूबर को गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया था। वह पिछले काफी समय से बीमार चल रहे थे।
बता दें कि मैनपुरी सपा का गढ़ रहा है, लेकिन जानकारों का कहना है कि अखिलेश यादव के लिए इस बार लड़ाई इतनी आसान नहीं रहने वाली है। कहा जा रहा है कि चाचा शिवपाल यादव मुश्किलें बढ़ा सकते हैं। चर्चा है कि भाजपा यहां मुलायम सिंह यादव की दूसरी बहू अपर्णा यादव को चुनावी मैदान में उतार सकती हैं। ऐसा हुआ तो मुकाबला दिलचस्प होगा।
पिछले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले अपर्णा यादव ने भाजपा का दामन थाम लिया था। मैनपुरी लोकसभा सीट पर 5 दिसंबर को उपचुनाव कराए जाएंगे। भाजपा इस चुनाव को लेकर उत्साहित है क्योंकि मोदी-योगी की पार्टी ने इसी साल सपा के गढ़ रहे आजमगढ़ और रामपुर लोकसभा सीट को अपने नाम किया है।

मैनपुरी लोकसभा सीट का इतिहास
सबसे खास बात यह है कि मैनपुरी लोकसभा सीट पर भाजपा एक बार भी जीत दर्ज नहीं कर सकी है। यहां अब तक 16 बार लोकसभा चुनाव और दो बार उप-चुनाव हुए हैं। इनमें आठ बार समाजवादी पार्टी ने जीत दर्ज की है। 5 बार यह सीट कांग्रेस की झोली में गई है। एक-एक बार प्रजा सोशलिस्ट पार्टी, बीएलडी, जनता पार्टी (सेक्युलर), जनता दल और जनता पार्टी के प्रत्याशी चुनकर लोकसभा पहुंचे। मायावती की पार्टी बीएसपी भी यहां खाता नहीं खोल पाई है। वहीं भाजपा की पुरजोर कोशिश है कि इस बार इतिहास बदला जाए।