शेयर बाजार में लगातार छठे दिन गिरावट, Sensex 135 अंक टूटा, Nifty 15,300 के नीचे फिसला

नयी दिल्ली: शेयर बाजार में लगातार 6वें दिन गिरावट देखने को मिली। क्रूड ऑयल की बढ़ती कीमतों के बीच सेंसेक्स में 135 अंक की गिरावट के साथ बेंचमार्क सूचकांकों ने शुक्रवार को लगातार छठे कारोबार सत्र में गिरावट का सिलसिला जारी रहा।
शुक्रवार को बीएसई बेंचमार्क 135.37 अंक या 0.26 प्रतिशत की गिरावट के साथ 51,360.42 पर बंद हुआ। दिन के दौरान बेंचमार्क को अस्थिरता का सामना करना पड़ा। इससे यह 574.57 अंक या 1.11 प्रतिशत की गिरावट के साथ अपने एक साल के निचले स्तर 50,921.22 पर पहुंच गया। वहीं, एनएसई निफ्टी 67.10 अंक या 0.44 प्रतिशत की गिरावट के साथ 15,293.50 पर क्लोज हुआ।

सेंसेक्स पैक में कौन रहा टॉप लूजर और टॉप गेनर
सेंसेक्स पैक से टाइटन, विप्रो, डॉ. रेड्डीज, एशियन पेंट्स, सन फार्मा, पावरग्रिड, लार्सन एंड टुब्रो, अल्ट्राटेक सीमेंट, मारुति, टीसीएस और हिंदुस्तान यूनिलीवर टॉप लूजर कंपनियों में थी। वहीं, दूसरी ओर बजाज फाइनेंस, बजाज फिनसर्व, रिलायंस इंडस्ट्रीज और आईसीआईसीआई बैंक टॉप गेनर में शामिल रही।

अंतरराष्ट्रीय बाजारों का हाल
बता दें कि वैश्विक बाजारों में भी हलचल देखने को मिली। एशिया में टोक्यो और सियोल के बाजार निचले स्तर पर समाप्त हुए, जबकि हांगकांग और शंघाई की बाजार हरे निशान पर रहीं और लाभ हासिल किया। शुक्रवार को कारोबार के मध्य सत्र के दौरान यूरोपीय बाजार हरे निशान में कारोबार कर रहे थे। वहीं, अमेरिका में स्टॉक एक्सचेंज गुरुवार को तेजी से गिरावट के साथ बंद हुए।
जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार ने कहा कि वैश्विक स्तर पर इक्विटी बाजारों को प्रभावित करने वाला प्रमुख विषय वैश्विक मौद्रिक सख्ती और आर्थिक मंदी की आशंका है।
इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.96 फीसद उछलकर 120.96 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) पूंजी बाजार में शुद्ध विक्रेता बने रहे, क्योंकि उन्होंने एक्सचेंज के आंकड़ों के मुताबिक, गुरुवार को 3,257.65 करोड़ रुपये के शेयर बेचे।