उद्धव ठाकरे बोले- मुख्यमंत्री हमारा ही होगा, BJP साथ तो ठीक, नहीं तो कोई और सही…

मुंबई: महाराष्ट्र का राजनीतिक दंगल अब और दिलचस्प हो गया है। सीएम पद से इस्‍तीफा देने के बाद जहां देवेंद्र फडणवीस शिवसेना पार्टी और उसके मुखिया उद्धव ठाकरे पर तीखे हमले बोले, वहीं ठाकरे भी लगे हाथ बीजेपी को झूठा बताते हुए जमकर निशाना साधा।
दादर स्थित शिवसेना भवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाकर शिवसेना प्रमुख ने साफ-साफ संकेत दिया कि सरकार गठन के लिए शिवसेना अन्य विकल्पों को लेकर गंभीर है। बीजेपी को झूठा बताते हुए ठाकरे ने कहा कि उन्होंने अपने पिता बाला साहेब को वचन दिया था कि एक दिन शिवसेना का सीएम होगा और हम अपना वचन निभाएंगे। उन्होंने कहा कि वचन पूरा करने के लिए हमें न अमित शाह और न बीजेपी के आशीर्वाद की जरूरत है। अगर आपके (बीजेपी) साथ नहीं तो किसी और के साथ मिलकर वचन को पूरा करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि बीजेपी झूठ बोलती है और उसके झूठ की वजह से ही उन्होंने उसके साथ सरकार गठन को लेकर बातचीत रोक दी है। सरकार गठन पर बीजेपी के पाले में गेंद फेकते हुए शिवसेना प्रमुख ने कहा अब यह बीजेपी के ऊपर है कि गठबंधन की सरकार बनती है या नहीं।

बीजेपी साबित करे, मैंने कब नरेंद्र मोदी की आलोचना की: ठाकरे
सीएम पद से इस्तीफा देने के बाद फडणवीस ने कहा था कि उद्धव ठाकरे उनका फोन नहीं उठा रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने आरोप लगाया कि सहयोगी होने के बावजूद शिवसेना पीएम मोदी पर भी तीखे हमले करते रही लेकिन बीजेपी चुप रही। इस आरोप पर उद्धव ने कहा कि बीजेपी को साबित करना चाहिए कि मैंने कब प्रधानमंत्री मोदी पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि उन्होंने कभी भी नरेंद्र मोदी की व्यक्तिगत आलोचना नहीं की। ठाकरे ने कहा कि पीएम मोदी ने उन्हें छोटा भाई बताया था लेकिन आज बीजेपी की तरफ से जो कॉमेंट आ रहे हैं वे बड़े भाई की तरह नहीं हैं।

हम जुबान देते हैं तो निभाते हैं: उद्धव ठाकरे
50-50 फॉर्म्युले को लेकर बीजेपी पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए ठाकरे ने कहा कि झूठ बोलने वालों से कैसी बातचीत? उन्होंने कहा कि जब आप (बीजेपी) इतना झूठ बोलते हो तो चर्चा किस बात की होगी।

बीजेपी के झूठ की वजह से मैंने ही रोकी बातचीत: ठाकरे
ठाकरे ने कहा कि बीजेपी के झूठ की वजह से ही उन्होंने सरकार गठन को लेकर चर्चा रोक दी। ढाई-ढाई साल के सीएम के 50-50 फॉर्म्युले को लेकर बीजेपी पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए ठाकरे ने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान ही यह तय हुआ था। उन्होंने कहा, अमित शाह का फोन आया था मेरे पास। मैंने कहा कि मैंने पिताजी को वचन दिया है…मैंने यह भी बोला कि अगर मेरी सीटें ज्यादा आईं तब भी हम बीजेपी को ढाई साल देंगे। अमित शाह ने कहा कि अभी तक जो हुआ सो हुआ लेकिन मेरे कार्यकाल में न्याय होगा। मैंने यह बात देवेंद्र जी को बताई तो उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान हम (ढाई-ढाई साल सीएम) का जिक्र नहीं करेंगे। पद और जिम्मेदारियों के समान निर्वहन की बात करेंगे। जब हम पद की बात करेंगे तो आप मान लेना कि इसमें सीएम पद की भी बात हो रही है। उन्होंने कहा कि शिवसेना झूठ बोलने वालों की पार्टी नहीं है और वह बीजेपी की तरह झूठा नहीं हैं।

राम मंदिर पर बीजेपी ने वादा पूरा नहीं किया: ठाकरे
शिवसेना प्रमुख ने मोदी सरकार पर चुनावी वादों को पूरा नहीं करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि आरएसएस और शिवसेना हमेशा से अयोध्या में राममंदिर निर्माण की मांग करती रही है लेकिन बीजेपी अपने वादे को पूरा करने में नाकाम रही। ठाकरे ने कहा, 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद अमित शाह ने मुझसे पूछा कि आपको कौन सा मंत्रालय चाहिए…मैंने कहा कि कोई भी अच्छा सा दे दीजिए। जिसमें काम होते हों, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *