कल्कि आश्रम: आयकर विभाग के छापे के बाद सामने आए ‘स्वयंभू भगवान’, 600 करोड़ की अघोषित संपत्ति

चेन्नई: तीन राज्यों में कल्कि आश्रम से जुड़े ठिकानों पर आयकर छापे में अकूत बेनामी संपत्ति का खुलासा हुआ है। खुद को कल्कि भगवान का अवतार बताने वाले विजय कुमार नायडू और उनके बेटे के आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और कर्नाटक में स्थित प्रतिष्ठानों पर आयकर विभाग की छापेमारी के बाद 600 करोड़ की अघोषित आय का पता चला है। इस बीच स्वयंभू भगवान ने एक विडियो जारी करते हुए सफाई दी है कि वह देश छोड़कर नहीं गए हैं। वहीं, नायडू के परिजनों पर भी आयकर विभाग ने शिकंजा कसते हुए समन जारी किया है।
आयकर विभाग ने आंध्र प्रदेश के चित्तूर स्थित कल्कि आश्रम और 39 अन्य ठिकानों पर सर्च ऑपरेशन के बाद 65 करोड़ की अघोषित रकम (45 करोड़ की भारतीय करंसी और 20 करोड़ की अमेरिकी डॉलर समेत दूसरे देश की मुद्राएं) जब्त की है। आश्रम की बेशुमार अवैध संपत्ति का जाल कितना लंबा था, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 16 अक्टूबर को शुरू हुई आयकर छापेमारी पांच दिन तक चली और रविवार को कहीं जाकर यह खत्म हो पाई।

44 करोड़ कैश, 31 करोड़ के जेवरात जब्त : 18 अक्टूबर को आयकर विभाग ने एक बयान जारी करते हुए कहा था कि आश्रम और उसके ठिकानों पर मारे गए छापों में 43.9 करोड़ भारतीय मुद्रा, 18 करोड़ की विदेशी मुद्राएं और 31 करोड़ कीमत के सोने और हीरे के जेवरात बरामद हुए हैं। आध्यात्मिक गुरु कल्कि के पुत्र एनकेवी कृष्णा और परिवार के दूसरे सदस्यों को आयकर विभाग ने पूछताछ का समन जारी किया है।

विडियो जारी कर कहा- देश नहीं छोड़ा : उधर स्वयंभू भगवान विजय कुमार नायडू ने विडियो जारी करते हुए मामले पर अपनी सफाई दी है। उन्होंने कहा, सबसे पहले मैं यह कहना चाहता हूं कि मैंने देश नहीं छोड़ा है, न तो हम कहीं और गए हैं। हम यहीं पर हैं और अपने श्रद्धालुओं को बताना चाहते हैं कि मेरा स्वास्थ्य बहुत अच्छा है। न तो सरकार और न ही आईटी डिपार्टमेंट ने कहा है कि हमने देश छोड़ दिया। लेकिन यह मीडिया है जो कह रहा है कि हमने देश छोड़ दिया है।

जांच में सहयोग नहीं कर रहे परिजन : हालांकि खास बात यह है कि विडियो में स्वयंभू भगवान नायडू ने आपने आश्रमों पर मारे गए आयकर छापों का जिक्र नहीं किया है। सूत्रों के मुताबिक छापेमारी के बाद स्वयंभू भगवान पर दबाव बढ़ता जा रहा है। उधर आयकर विभाग के सूत्रों ने बताया कि कल्कि के पुत्र और उनकी बहू जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। दोनों चेन्नै के एक अस्पताल में भर्ती हैं और उन्होंने नियमित मे़डिकल जांच का हवाला दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *